हाल की के महीनों में छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र के 100 नक्सली घुसे मध्यप्रदेश में : पुलिस

Share this news

बालाघाट मप्र, 03 जनवरी (भाषा) छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र के लगभग 100 नक्सली अपने आधार का विस्तार करने के लिए पिछले कुछ महीनों में मध्यप्रदेश में घुस आए हैं। इन नक्सलियों से निपटने के लिए राज्य सरकार ने नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में अर्धसैनिक बलों की छह कंपनियों की तैनाती की मांग की है। मध्यप्रदेश के एक पुलिस अधिकारी ने यह जानकारी दी है।

अधिकारी ने कहा कि इन सुरक्षा बलों को जल्द ही मध्यप्रदेश के बालाघाट और आदिवासी बहुल मंडला जिलों में तैनात किए जाने की संभावना है, जहां ए नक्सली धुसे हैं।

अधिकारी ने कहा, हमारे सूत्रों द्वारा हमें दी गई जानकारी के अनुसार छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र के करीब 100 नक्सली पिछले कुछ महीनों में मध्यप्रदेश में घुस आए हैं, ताकि इस क्षेत्र में वे अपना आधार बढ़ा सके।

उन्होंने बताया कि ये नक्सली बालाघाट जिले में महाराष्ट्र एवं छत्तीसगढ़ की सीमाओं से घुसे हैं। बालाघाट एवं मंडला जिले एक दूसरे से सटे हुए हैं और इनकी लंबी सीमा है। अधिकारी ने बताया कि बालाघाट और मंडला जिले में नक्सलियों के छह समूह सक्रिय हैं। इनमें से मंडला में खटिया मोचा दलम पिछले साल आया था।

मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पिछले महीने बालाघाट के दौरे के दौरान संवाददाताओं से कहा था कि नक्सलवाद से निपटने के लिए अर्धसैनिक बलों की और छह कंपनियां नक्सल प्रभावित बालाघाट और मंडला में तैनात की जा रही हैं।

अधिकारी ने कहा कि नक्सलियों से लोहा लेने के लिए विशेष तौर पर प्रशिक्षित मध्यप्रदेश पुलिस की हॉक फोर्स पहले से ही बालाघाट में तैनात है। इसके अलावा, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल सीआरपीएफ की एक बटालियन भी वहां तैनात है।

पुलिस ने बताया कि पड़ोसी राज्यों से मध्यप्रदेश में नक्सली घुस आए हैं। इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि नवंबर और दिसंबर 2020 में बालाघाट जिले में तीन महिला माओवादी पुलिस के साथ तीन अलग-अलग मुठभेड़ों में मारी गयीं। इनमें से दो छत्तीसगढ़ की रहने वाली थी, जबकि एक महाराष्ट्र की थी।

उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ से बालाघाट में घुसे एक नक्सली को पिछले साल सितंबर में पुलिस ने पकड़ा भी था। पुलिस ने बताया कि छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले से रहने वाली नक्सली शारर्दा 25 पर पुलिस ने कुल आठ लाख रुपए का इनाम घोषित किया गया था। इसमें से मध्यप्रदेश ने तीन लाख रुपए और छत्तीसगढ़ पुलिस ने पांच लाख रुपए का इनाम रखा था। उसे पिछले साल छह नवंबर को मध्यप्रदेश के बालाघाट जिले में पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया था।

उन्होंने कहा कि इसी तरह छत्तीसगढ़ के बस्तर क्षेत्र के गंगलूर से आई नक्सली सावित्री उर्फ अयोर्ठे 24 और महाराष्ट्र के गढ़चिरौली की नक्सली शोभा 30 को पिछले महीने 11-12 दिसंबर की रात को बालाघाट जिले में पुलिस मुठभेड़ों में मार गिराया गया। इन दोनों पर पुलिस ने 14-14 लाख रुपए का इनाम घोषित किया था।

पुलिस ने कहा कि इसके अलावा, बालाघाट पुलिस ने पिछले साल सितंबर में छत्तीसगढ़ के खूंखार नक्सली बादल सिंह मरकाम को पड़ोसी राज्यों से बालाघाट में घुसने के बाद पकड़ा था। बालाघाट की सीमा छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र से लगी है।